このページのリンク

<図書>
प्राकृत ग्रन्थ परिषद्

出版者 वाराणसी : अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद्
コード類 書誌ID=1000022735 NCID=BA06575370

書誌詳細を表示

本文言語 〔言語名不明〕
別書名 異なりアクセスタイトル:Prākṛtagranthapariṣad
異なりアクセスタイトル:Prākr̥ta-grantha-pariṣad granthāṅka
異なりアクセスタイトル:Prakrit Text Society series
異なりアクセスタイトル:Prakrit Text Series
異なりアクセスタイトル:Prākr̥ta Grantha Pariṣad śreṇī
異なりアクセスタイトル:प्राकृत ग्रन्थ परिषद्
異なりアクセスタイトル:प्राकृत ग्रन्थ परिषद् ग्रन्थाङ्क
異なりアクセスタイトル:प्राकृत टेक्स्ट ग्रन्थाङ्क
異なりアクセスタイトル:प्राकृत टेक्स्ट ग्रन्थ अङ्क
異なりアクセスタイトル:प्राकृतग्रन्थपरिषद्
異なりアクセスタイトル:प्राकृतग्रन्थपरिषद् ग्रन्थाङ्क
異なりアクセスタイトル:प्राकृत ग्रंथ परिषद् ग्रन्थाङ्क
一般注記 Publisher varies

子書誌情報を非表示

1 ग्रन्थाङ्कः 1 पुव्वायरियविरइया अंगविज्जा : मणुस्सविविहचेट्ठाइणिरिक्खणदारेण भविस्साइफलणाणविण्णाणरूवा : परिसिट्ठाइविभूसिया / संशोधकः सम्पादकश्च, मुनिपुण्यविजयः वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1957
2 no. 2, 4 प्राकृतपैंगलम् / संपादक, भोलाशंकर व्यास भाग 1,भाग 2. - वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1959-1962
3 no. 3 सिरि-सीलंकायरियविरइयं चउप्पन्नमहापुरिसचरियं / संशोधकः सम्पादकश्च, अमृतलाल मोहनलाल भोजक वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1961
4 no. 5 आचार्यश्रीनेमिचन्द्रसूरिग्रथितः आख्यानकमणिकोशः : श्रीमदाम्रदेवसूरिसन्दृब्धया वृत्त्या समलङ्कृतः / संशोधकः सम्पादकश्च, मुनिपुण्यविजयः वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1962
5 ग्रन्थाङ्कः 6, 12 आयरियसिरिविमलसूरिविरइयं पउमचरियं : हिंदीअणुवायसहियं / सम्पादक, हर्मन जेकोबी ; हिन्दीअनुवादक, शान्तिलाल म. वोरा 1. विभागः,2. विभागः. - 2nd ed. / revised by Muni Shri Punyavijayaji. - वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1962-1968
6 ग्रन्थाङ्कः 7 पाइअ-सद्द-महण्णवो = प्राकृत-शब्द-महार्णवः : अर्थात्, विविध प्राकृत भाषाओं के शब्दों का संस्कृत प्रतिशब्दों से युक्त, हिन्दी अर्थों से अलंकृत, प्राचीन ग्रन्थों के अनल्प अवतरणों और परिपूर्ण प्रमाणों से विभूषित बृहत्कोष / कर्ता, हरगोविन्ददास त्रिकमचंद सेठ ; संपादक, वासुदेव शरण अग्रवाल, दलसुख भाई मालवणिया 2. संस्करण. - वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1963
7 no. 8 आयरियसिरिपउमकित्तिविरइउ पासणाहचरिउ : प्रस्तावना-हिन्दी अनुवाद-कोष-टिप्पणसह / सम्पादक, प्रफुल्ल कुमार मोदी वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1965
8 no. 9 सिरिदेववायगविरइयं नंदीसुत्तं : सिरिजिणदासगणिमहत्तरविरइयाए चुण्णीए संजुयं / संशोधकः सम्पादकश्च, मुनिपुण्यविजयः वाराणसी ; अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1966
9 ग्रन्थाङ्कः 10 श्रीदेववाचकविरचितं नन्दिसूत्रम् : श्री-श्रीचन्द्राचार्यकृतदुर्गपदव्याख्या-अज्ञातकर्तृकविषमपदपर्यायाभ्यां समलङ्कृतया आचार्यश्रीहरिभद्रसूरिकृतया वृत्त्या सहितम् / संशोधकः सम्पादकश्च, मुनिपुण्यविजयः वाराणसी ; अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1966
10 no. 11 . Prakrit grammar series ; no. 1 Mārkaṇḍeya's Prākṛta-sarvasva = मार्कण्डेयविरचितं प्राकृतसर्वस्वम् / critically edited with introduction, variant readings and useful indices etc. by Krishna Chandra Acharya Ahmedabad : Prakrit Text Society , 1968
11 no. 13 मुनि-सिरिचंद-विरइयउ कहकोसु / सम्पादक, हीरालाल जैन अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1969
12 no. 14 जयवल्लहं नाम वज्जालग्गं : रत्नदेवकृतसंस्कृतवृत्तिसंवलितम् : भूमिका-आङ्ग्लानुवाद-टिप्पणी-शब्दकोश-इत्यादिभिः सह संपादितम् / माधव वासुदेव पटवर्धन अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1969
13 ग्रन्थाङ्क 15 श्रीमद्देवचन्द्रसूरिसन्दृब्धवृत्तिसहितं आचार्यश्रीमत्प्रद्युम्नसूरिविरचितं "स्थानकानि" इत्यपरनामकं मूलशुद्धिप्रकरणम् / सम्पादक, अमृतलाल मोहनलाल भोजक 1. भागः. - अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1971-
14 no. 16 आचार्यश्रीशान्तिसूरिविरचितं पुहइचंदचरियं / सम्पादक, मुनिश्रीरमणिकविजयः ; प्रस्तावना-विषयानुक्रम-परिशिष्टादिनिर्माता, अमृतलाल मोहनलाल भोजक अहमदाबाद ; वाराणसी : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1972
15 no. 17 सिरिसेज्जंभवथेरविरइयं दसकालियसुत्तं : सिरिभद्दबाहुसामिविरइयाए निज्जुत्तीए सिरिवइरसामिसाहुब्भवसिरिअगत्थियसिंहथेरविरइयाए चुण्णीए य संजुयं / संशोधकः सम्पादकश्च, मुनिपुण्यविजयः वाराणसी ; अहमदाबाद : प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 1973
16 ग्रंथाङ्क 18 कइराअ-बप्पइराअस्स गउडवहो / नरहर गोविंद सुरु इत्यनेन भूमिका-आङ्ग्लभाषानुवाद-टिप्पणी-परिशिष्ट-शब्दकोशादिभिः सह संपादितः अहमदाबाद ; वाराणसी : प्राकृत ग्रंथ परिषद् , 1975
17 no. 20 Pravarasena's Setubandha / translated into English with extracts from unpublished commentaries, critical notes, and an introd. by Krishna Kanta Handiqui Ahmedabad : Prakrit Text Society. - Delhi : available from Motilal Banarsidas , 1976
18 no. 25, 27, 30-31, 37 कइराय-सयंभूदेव-किउ रिट्ठणेमिचरिउ : हरिवंसपुराणु / संपादक, रामसिंह तोमर 1. खण्ड - 4. खंड, 1. भाग. - 1st ed. - अमदावाद : प्राकृत ग्रंथ परिषद् , 1993-
19 no. 32 दोहा-गीति-कोश (सरह-पाद-कृत) ; चर्या-गीति-कोश (विविध-सिद्धकृत चर्या-संग्रह) : संशोधित पाठ, संस्कृत छाया, अंग्रेजी अनुवाद / संपादक, ह.चू. भायाणी 1st ed. - अमदावाद : प्राकृत ग्रंथ परिषद , 1997
20 naṃ. 34 Jināgamoṃ kī mūla bhāṣā : apraila 27-28, 1997 ko āyojita vidvat-saṅgoṣṭī meṃ prastuta śodha-patra = The original language of Jaina canonical texts / mukhya sampādaka, Dalasukha Mālavaṇiyā, Harivallabha Bhāyāṇī ; saṃpādaka Vijayaśīlacandrasūri, Ke. Āra. Candra Ahamadābāda : Prākr̥ta Ṭeksṭa Sosāyaṭī , 1999
21 no. 40 प्राकृत भाषाओं का तुलनात्मक व्याकरण / के.आर. चन्द्र 2. आवृत्ति. - अहमदाबाद : द.मा. प्राकृत ग्रन्थ परिषद् , 2001